गोलियां और ग्रेनेड के छर्रे लगने के बाद भी डटा रहा यह दिलेर, मार गिराए थे जैश के तीन आतंकी

छत्तीसगढ़ के नक्सल मोर्चे पर तैनात सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट हर्षपाल सिंह को कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया। हर्षपाल सिंह को यह पुरस्कार पिछले साल सितंबर में जम्मू में जैश-ए-मोहम्मद के तीन खूंखार आतंकवादियों को मार गिराने के लिए मिला है। सिंह को इस दौरान आतंकियों की ओर से दागी गईं गोलियां और ग्रेनेड के छर्रे भी लगे। पर, वह आतंकियों के सामने मजबूती से डटे रहे और उन्हें मार गिराने तक पीछे नहीं हटे थे। बस्तर के घोर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा के 111 बटालियन के सेकेंड इंचार्ज हैं हर्षपाल सिंह।

नोएडा के निवासी हर्षपाल झारखंड़ और छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र में लगातार पदस्थ रहे और कई सफल अभियान चलाया। सिंह को वर्ष 2007 से अब तक पांच गैलेंट्री अवार्ड भी मिल चुका है। वर्ष 2005 में सीआरपीएफ ज्वाइन करने वाले सिंह 12 मई, 2019 से दंतेवाड़ा में पदस्थ हैं। 13 सितंबर, 2018 को वैष्णवदेवी यूनिवर्सिटी के पास जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी के द्वारा पुलिस पोस्ट पर फायरिंग का इनपुट मिला था। इसके आधार पर आपरेशन प्लान किया गया और जैश के आतंकियों को करारा जवाब देते हुए टीम को सफलता मिली थी।

इस घटना की सफलता के बाद सिंह को कीर्ति चक्र प्रदान करने की घोषणा की गई। कीर्ति चक्र मिलने पर हर्षपाल सिंह का कहना है, ‘इस पुरस्कार को पाकर मैं काफी गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। मैं अपनी बटालियन और संगठन के लिए भी अच्छा महसूस कर रहा हूं। ऑपरेशन के दौरान जिन वीर साथियों ने मेरा साथ दिया और मेरे निर्णय के साथ खड़े रहे, मैं उन सभी को धन्यवाद देना चाहता हूं।’

यह भी पढ़ें: एक बहन जो भाई की कलाई पर नहीं, उसकी बंदूक को बांधती है राखी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here