खूंखार नक्सली को पकड़ने वाले बिहार पुलिस के जवानों को मिलेगा सम्मान

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से बिहार पुलिस (Bihar Police) के 9 जवान और अफसरों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इन सभी जवानों और अफसरों का चयन किया है।

Bihar Police

केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) की ओर से बिहार पुलिस (Bihar Police) के 9 जवान और अफसरों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाएगा।

केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) की ओर से बिहार पुलिस (Bihar Police) के 9 जवान और अफसरों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इन सभी जवानों और अफसरों का चयन किया है। केंद्रीय गृह सचिव ने इसकी सूचना और जवानों के नामों की सूची डीजीपी को दे दी है।

Bihar Police
बिहार पुलिस के 9 जवान और अफसरों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाएगा।

केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) की ओर से बिहार पुलिस (Bihar Police) के 9 जवान और अफसरों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाएगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इन सभी जवानों और अफसरों का चयन किया है। इनमें नालंदा जिला आसूचना (इंटेलिजेंस) इकाई के प्रभारी सह बिहार के सर्किल इंस्पेक्टर मो. मुश्ताक के अलावा एसटीएफ (STF) के संतोष कुमार सिंह (एसआई), बैजनाथ कुमार (एसआई), अभिराम कुमार (एसआई), रविशंकर (एसआई), मनोज कुमार सिंह (एसआई), मुकेश कुमार सिंह (एएसआई), देवपूजन प्रजापति (सिपाही) और कृष्ण कन्हैया कुमार (सिपाही) शामिल हैं।

केंद्रीय गृह सचिव ने इसकी सूचना और जवानों के नामों की सूची डीजीपी को दे दी है। 5 लाख के इनामी नक्सली की गिरफ्तारी के लिए असाधारण आसूचना हासिल करने में बिहार पुलिस (Bihar Police) के इंस्पेक्टर मुश्ताक और अन्य जवानों के साहस और कौशल को देखते हुए यह सम्मान दिया गया है।

दरअसल, आतंकवाद, नक्सलवाद और उग्रवाद प्रभावित क्षेत्रों में वारदातों की रोकथाम या संगठन के सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए जान को जोखिम में डाल कर असाधारण वीरता और कौशल दिखाते हुए आसूचना जुटाने वाले केंद्रीय और राज्य खुफिया विभाग के कर्मियों को ‘असाधारण आसूचना कुशलता पदक’ से सम्मानित किया जाता है। यह सम्मान पाना बिहार पुलिस (Bihar Police) के लिए गौरव की बात है।

पढ़ें: कांकेर में प्रेशर बम बरामद, नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम

आग में चलकर और बिना सहारे पहाड़ पर चढ़कर बनते हैं ‘गरुड़ कमांडो’, पढ़िए ट्रेनिंग से जुड़ी हर बात

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें