भारत और पाकिस्तान के बीच ऐसे हुई थी 1965 के युद्ध की शुरुआत, जानें पूरी कहानी…

1961 में चीन से युद्ध में हारने के बाद भारत को तीन साल बाद ही पाकिस्तान से भी लड़ना पड़ा। 1965 के युद्ध (1965 India-Pakistan War) में भारत ने पाकिस्तान को वो मजा चखाया जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर-थर कांप उठता है।

Pakistan

1965 के युद्ध (1965 India-Pakistan War) में भारत ने पाकिस्तान को वो मजा चखाया जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर-थर कांप उठता है।

भारत और पाकिस्तान के खिलाफ 1965 में युद्ध (1965 India-Pakistan War) लड़ा गया था। 1961 में चीन से युद्ध में हारने के बाद भारत को तीन साल बाद ही पाकिस्तान से भी लड़ना पड़ा। इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को वो मजा चखाया जिसे यादकर दुश्मन देश आज भी थर-थर कांप उठता है। हालांकि दोनों देशों ने जीत का दावा किया लेकिन वास्तव में दोनों ही देश अपने सैनिक उद्देश्यों को पूरा करने में असफल रहे।

पाकिस्तान के ऑपरेशन डेजर्ट हॉक से इसकी शुरुआत हुई थी। इस ऑपरेशन को अप्रैल, 1965 में ‘रन ऑफ कच्छ’ में शुरू किया गया था। इस ऑपरेशन के जरिए पाक ने कच्छ के एक बड़े क्षेत्रफल पर अपना हक जताया। भारत ने इसका उसी समय कड़ा विरोध दर्ज किया। रसल ब्रायन की किताब इंडो-पाकिस्तान कॉन्फ्लिक्ट के मुताबिक इसी की वजह से युद्ध की नींव पड़ी।

विभाजन के दौरान भड़क उठे थे दंगे, फिर हुआ पाकिस्तान के साथ युद्ध

इसके बाद पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने कश्मीर हड़पने के लिए ऑपरेशन जिब्राल्टर की साजिश रची थी। इस ऑपरेशन के प्लान के तहत पाक सेना के जवान अलग-अलग भेस में कश्मीर में दाखिल होते और दंगे करवाते।

दुश्मनों ने 8 सितंबर, 1965 को खेमकरण सेक्‍टर के उसल उताड़ गांव पर धावा बोल दिया। ये हमला पैदल सैन्य टुकड़ी के साथ पैटन टैंक के साथ किया गया था। कश्मीर हड़पने का पाक सेना का यह एक बड़ा ही दुस्साहसी प्लान था। हालांकि पाकिस्तानी सेना के ‘ऑपरेशन जिब्राल्टर’ को हमारी सेना ने बुरी तरह से धवस्त कर दिया था। इसके बाद पाकिस्तान ऑपरेशन ग्रैंड स्लैम शुरू कर 1 सितंबर को छम्ब से भारत में घुसकर अखनूर पुल तक आ पहुंचा।

जवाब में भारतीय सेना 6 सितंबर को पंजाब फ्रंट खोला और फौजें बरकी तक जा पहुंची। ऐसा दुश्मनों का ध्यान भटकाने के लिए किया गया।  फिर क्या था भारतीय सेना ने घुसपैठियों को जल्द ही ढूंढ निकाला। इसी ऑपरेशन ने 1965 में भारत-पाक युद्ध (1965 India-Pakistan War) की शुरुआत की थी। सब कुछ प्लान के मुताबिक न होने के अभाव की में शुरूआत से ही रणनीति बहुत ही खराब हुई और पाकिस्तान युद्ध में टिक नहीं सका।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें