तोहमत मढ़ पाकिस्तान फिर हुआ बेनकाब, श्रीलंका के खेल मंत्री ने कहा – खिलाड़ियों के पाक नहीं जाने पर भारत ने नहीं बनाया दबाव

अपनी कारस्तानियों का तोहमत भारत पर मढ़ने के लिए पाकिस्तान (Pakistan) पूरी दुनिया में बदनाम है। कई बार इस वजह से उसकी किरकिरी भी हुई है। लेकिन पड़ोसी है कि सुधरने का नाम नहीं लेता। अब श्रीलंका ने पाकिस्तान (Pakistan) के उस झूठ को बेनकाब कर दिया है जिसकी सहारे वो यह उम्मीद लगाए बैठा था कि अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में शायद उसे सहानुभूति की थोड़ी भीख मिल जाए।

Pakistan, Indian Cricket Team, Pakistan Cricket Team, Sr Lanka Cricket Team, IPL, T-20, One day International
श्रीलंका के सीनियर खिलाड़ियों ने पाकिस्तान जाने से इनकार किया।

इस बार अपने प्रोपगैंडा और झूठ को फैलाने के लिए पाकिस्तान की तरफ से कहा गया था कि भारत के मना करने के बाद श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने पाकिस्तान का दौरा करने से इनकार कर दिया है। यह इल्जाम मढ़ कर पाकिस्तान ने शायद यह सोचा था कि यह उसका बाउंसर है और भारत के पास झुकने के सिवा कोई रास्ता नहीं है। लेकिन कुटनीति के बाद अब पाकिस्तान खेल के पिच पर भी क्लीन बोल्ड हो गया है। दरअसल श्रीलंका क्रिकेट टीम 27 सितंबर से 19 अक्टूबर तक पाकिस्तान दौरे पर जाने वाली थी। लेकिन सीरीज का आगाज होने से पहले ही श्रीलंका के कई खिलाड़ियों ने सुरक्षा के मद्देनजर पाकिस्तान जाने से इनकार कर दिया।

इमरान खान का झूठा दावा, सोशल मीडिया पर उड़ रहा मजाक

इसके बाद पाकिस्तान के विज्ञान और तकनीकी मंत्री फवाद हुसैन ने कहा था कि उन्हें सूचना मिली है कि भारत ने श्रीलांकाई खिलाड़ियों को धमकी दी है कि अगर वे पाकिस्तान जाने से इनकार नहीं करते हैं तो उन्हें आईपीएल से बाहर कर दिया जाएगा। यह बयान देकर शायद पाकिस्तन के मंत्री खुद को बड़ा खिलाड़ी समझ रहे थे।

इमरान खान ने कबूला- पाकिस्तान ने बनाए जेहादी, जम्मू-कश्मीर पर नहीं सुनी तो अमेरिका पर बरसे

लेकिन फवाद हुसैन के इन आरोपों के बाद श्रीलंका के खेल मंत्री हरिन फर्नांडो ने ट्वीट किया जिससे एक बार फिर यह साबित हो गया कि पाकिस्तान के फवाद हुसैन खिलाड़ी नहीं बल्कि बड़े अनाड़ी हैं। हरिन फर्नांडो ने लिखा कि “इन रिपोर्ट्स में कोई सच्चाई नहीं है कि भारत ने श्रीलंका के खिलाड़ियों पर पाकिस्तान में न खेलने का दवाब बनाया है। कुछ लोगों ने इस दौरे पर न जाने का फैसला 2009 की घटना के आधार पर लिया है। इन खिलाड़ियों की भावनाओं का सम्मान करते हुए हमने टीम में उन्हीं को शामिल किया जो पाकिस्तान जाना चाहते थे। हमारी टीम पूरी है। उम्मीद करते हैं कि हम पाकिस्तान को पाकिस्तान में हराएंगे।”

भारत के राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा, जम्मू-कश्मीर पर एकतरफा रिपोर्टिंग कर रहा अमेरिकी मीडिया

आपको बता दें कि श्रीलंका के जिन खिलाड़ियों ने पाकिस्तान जाने से इनकार किया था उनमें – वनडे टीम के कप्तान दिमुथ करुणारत्ने, टी-20 कप्तान लसिथ मलिंगा, पूर्व कप्तान एंजेलो मैथ्यूज, निरोशन डिकवेला, कुसल परेरा, धनंजय डी सिल्वा, अकिला धनंजय, सुरंगा लकमल, दिनेश चंडीमल और दिमुथ करुणारत्ने शामिल हैं। यहां आपको यह भी याद दिला दें कि साल 2009 में पाकिस्तान दौरे पर गई श्रीलंका के खिलाड़ियों पर जानलेवा हमला हुआ था। इस घटना में कई श्रीलंकाई क्रिकेटर घायल हो गए थे।

पाकिस्तान है कि मानता नहीं, अब संयुक्त राष्ट्र महासभा में सुनाएगा अपना दुखड़ा

पाकिस्तान में खिलाड़ियों के साथ हुई इस घटना के बाद से दुनिया की किसी भी बड़ी टीम ने अब तक पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है। अब पाकिस्तान हर मुद्दे को भारत के साथ जोड़ कर दुनिया के सामने खुद को सही साबित करने की जुगत में लगा है इसलिए हर बार पाकिस्तान पस्त होकर बिना सोचे-समझे हिन्दुस्तान पर आरोप लगा रहा है।

एक नेता जिसने अपने ससुर नेहरू से की बगावत, मजबूरन वित्त मंत्री ने दिया इस्तीफा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here