नक्सलियों की करतूत बन चुकी है मासूमों के लिए आफत

Naxals imposed Landmines in several places of Lohardaga, naxal attacks, naxal area,

आतंक और खून-खराबा करने वाले किसी का भला नहीं करते। न ही इससे कभी किसी का भला हुआ है। पर मुश्किल यह है कि ये सब करने वाले लोग इस बात को नहीं समझते। मामला और संवेदनशील तब हो जाता है जब नक्सली अपने मंसूबों को कामयाब बनाने के लिए नौनिहालों की जान को भी खतरे में डालने से नहीं हिचकते। मासूम बच्चे स्कूल के लिए निकलते हैं तो मां-बाप की जान अटकी रहती है कि पता नहीं अगले ही पल क्या हो जाए। बच्चे भी डरे सहमे से स्कूल जाते हैं।

दरअसल, लोहरदगा जिले में हाल के समय में नक्सलियों ने कई वारदातों को अंजाम देकर अपनी घिनौनी हरकत फिर से दिखाया है। नक्सलियों की करतूत अब आम लोगों और छोटे स्कूली बच्चों के लिए खतरनाक बन चुकी है। भाकपा माओवादी नक्सली संगठन ने पेशरार प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में जगह-जगह पर लैंडमाइंस लगा रखे हैं। पहले भी लैंड-माइंस विस्फोट की दो घटनाएं हुई हैं। जिसमें एक ग्रामीण की मौत हो चुकी है। जबकि कई घायल हो गए थे। इन घटनाओं ने आम आदमी को खौफजदा कर दिया है। गांववालों का आना-जाना पगडंडियों से होता है। इन पडंडियों पर लैंड-माइन्स की ब्लास्ट की घटनाओं से उनके चेहरे पर भी डर और खामोशी की तस्वीर साफ नजर आती है। जब उन पगडंडियों से होकर बच्चे स्कूल जाते हैं तो माता-पिता की जान अटकी रहती है। बच्चे भी रास्तों से होकर जाना नहीं चाहते।

इसे भी पढ़ें: नक्सलवादियों के दिन लदने लगे हैं, काउंट डाउन शुरू

हालांकि, लोहरदगा एसपी प्रियदर्शी आलोक कहते हैं कि हाल के समय में पुलिस ने नक्सलियों को करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर नक्सल विरोधी अभियान चला जा रहा है। इस क्रम में बीडीएस टीम के माध्यम से लैंड माइंस की जांच भी की जा रही है। पुलिस जल्द ही नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ फेंकेगी। बहरहाल नक्सलियों की करतूत अब मासूमों के लिए आफत बन चुकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here