घाटी से हुआ IS का सफाया, सुरक्षाबलों ने आखिरी आतंकी को उतारा मौत के घाट

ishaq sofi, ISJK commander, isjk commander killed in a brief exchange of firing between Army and Militants in jammu and kashmir

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है। सुरक्षाबलों ने कश्मीर में इस्लामिक स्टेट के आतंकी को ढेर कर दिया। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में 10 मई को सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकी को मारा गिराया। जानकारी के अनुसार, मुठभेड़ में मारा गया आतंकी जम्मू-कश्मीर में आईएस का कमांडर था। उसका नाम इशाक़ अहमद सोफी उर्फ अब्दुल्ला भाई था जो सोपोर का रहने वाला था। यह आतंकी घाटी में 3 साल से सक्रिय था।

यह मुठभेड़ शोपियां के जामनगरी इलाके में हुई। मुठभेड़ उस वक्त शुरू हुई जब सुबह लगभग 4 बजे सेना की 23 पैरा और राज्य पुलिस विशेष अभियान दल एसओजी के जवानों के एक संयुक्त कार्यदल ने शोपियां के अमशीपोरा में एक बाग की घेराबंदी शुरु की। आतंकियों ने सेना की पेट्रोलिंग पार्टी पर गोलीबारी शुरू कर दी। भारतीय जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए एक आतंकी को मार गिराया। मारे गए आतंकी के पास से भारी मात्रा में गोला-बारूद और हथियार भी बरामद हुए हैं। सुरक्षा बलों से मिली जानकारी के मुताबिक, अब्दुल्ला भाई 2015 में हरकत उल मुजाहिद्दीन में शामिल हुआ था।

बाद में वह 2016 में इस्लामिक स्टेट जम्मू-कश्मीर का सदस्य बन गया था। जहां उसे जम्मू कश्मीर में इस्लामिक स्टेट का कमांडर बना दिया गया था। उसको पहले गिरफ्तार भी किया जा चुका है। जब उसको गिरफ्तार किया गया था, तब वह हरकत उल मुजाहिद्दीन से जुड़ा था। घटना के बाद प्रशासन ने शोपियां और सोपोर के विभिन्न इलाकों में भड़की हिंसा के बाद मोबाईल इंटरनेट सेवाओं को भी बंद कर दिया है। सोपोर में सभी शिक्षण संस्थान भी एहतियात के तौर पर बंद किए गए हैं। बता दें कि जम्मू-कश्मीर में सेना आतंकियों का सफाया करने के लिए ऑपरेशन ऑल आउट चला रही है। इसमें सेना को काफी हद तक सफलता मिली है। घाटी से आतंकियों का लगातार खात्मा होता चला जा रहा है।

खबरों के मुताबिक, अब्दुल्ला भाई इस्लामिक स्टेट का कश्मीर में एकमात्र बचा हुआ आतंकी था। इसके साथ ही कश्मीर में इस्लामिक स्टेट के खात्मे की बात कही जा रही है। गौरतलब है कि पिछले साल भी इस्लामिक स्टेट के दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने मार गिराया था और चार को गिरफ्तार किया गया था। वहीं, आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट का सरगना अबू बकर अल-बगदादी इस संगठन द्वारा पिछले महीने जारी एक वीडियो में पांच साल में पहली बार दिखाई दिया था। आईएसआईएस के गढ़ कहे जाने वाले सीरिया के शहर इडलिब से यह ऑडियो जारी किया गया था। इस वीडियो से दुनिया भर में सनसनी फैल गई थी।

इससे पहले दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में 25 अप्रैल को मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया था। सुरक्षाबल के जवानों को अनंतनाग जिले के बिजबेहरा के बागेंदर मोहल्ले में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद सुरक्षाबल के जवानों ने सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों से मुठभेड़ हुई, जिसमें दो आतंकी मारे गए। आतंकियों की पहचान सफदर अमीन भट्ट और बुरहान अहमद गनी के रूप में हुई। दोनों आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हुए थे।

यह भी पढ़ें: 16 जवानों की हत्या के लिए 30 किलो आईईडी, पढ़िए नक्सलियों ने कैसे रची हमले की साजिश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here