सुरक्षाबलों ने गुजरात के कच्छ इलाके में पाकिस्तानी ड्रोन मार गिराया

IAF air strike pakistani drone destroyed

पाकिस्तान के बालाकोट और पीओके में चकोठी और मुजफ्फराबाद में घुसकर आतंकवादियों के ठिकानों पर हमले के बाद भारतीय वायु सेना पूरी तरह हाई अलर्ट पर है। अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी वायु सेना के किसी दुस्साहस की आशंका को देखते हुए सेना पूरी तरह तैयार है।

पुलवामा अटैक के जवाब में भारतीय वायुसेना के एयर स्ट्राइक से दोनों मुल्कों की सीमा पर हलचल बढ़ गई है। इसी बीच भारतीय सुरक्षा बलों को पाकिस्तान की सीमा सटे गुजरात के कच्छ इलाके में एक और कामयाबी मिली है। खबर है कि, गुजरात के कच्छ सीमा के समीप पाकिस्तान के एक ड्रोन को मार गिराया गया है। ड्रोन का मलबा कच्छ के अब्दासा तालुका के ननघाटाद गांव के पास दिखा है। कहा जा रहा है कि यह ड्रोन पाकिस्तान से भारत की जासूसी के लिए भेजा गया था।

घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस के अधिकारी पहुंच गए। पूछने पर पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि ऐसी एक घटना हुई है, हम उसकी जांच कर रहे हैं। अधिकारी ने इस बारे में अधिक जानकारी देने से इनकार कर दिया। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, जवानों ने कैंप के पास एक उड़ती हुई चीज देखी। उन्हें समझ आ गया कि वह ड्रोन था, जिसे पाकिस्तान से जासूसी के लिए भारत की सीमा पर भेजा गया था। जवानों ने बिना कोई देर किए मिसाइल से उस ड्रोन पर निशाना साधा। मिसाइल का निशाना सीधे ड्रोन पर लगा और वह तेज धमाके के साथ नीचे आकर गिर गया। यह घटना 26 फरवरी सुबह करीब 6 बजे की है। आवाज इतनी तेज थी कि आसपास के गांव के  लोग वहां पहुंच गए। घटनास्थल पर उन्होंने ड्रोन का मलबा देखा।

उल्लेखनीय है कि पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान में स्थित आतंकी ठिकानों और ट्रेनिंग कैंम्प्स पर हवाई हमले कर उन्हें तबाह कर दिया है। यह हमला भारतीय वायुसेना ने 26 फरवरी को सुबह करीब 3.30 बजे किया। वायुसेना के लगभग 12 मिराज-2000 फाइटर-जेट्स ने एलओसी क्रॉस कर पाकिस्तानी क्षेत्र में कई बड़े टेरेरिस्ट कैंप को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया। सूत्रों के अनुसार, करीब 1000 किलोग्राम बम लेकर भारतीय  वायु सेना के 12 मिराज-2000 लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान में घुसकर वहां संचालित हो रहे आतंकी-ठिकानों को निशाना बनाया।

सेना के मुताबिक IAF ने पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद, हिज्बुल मुजाहिद्दीन और लैश्कर-ए-तैय्यबा के बड़े ठिकानों को टारगेट किया है। एएनआई के अनुसार, पाकिस्तान के F16 विमानों ने IAF के मिराज-2000 लड़ाकू विमानों पर जवाबी कार्रवाई करने की कोशिश भी की थी। पर वे मात खाकर पीछे हट गए, क्योंकि F16 विमान, साइज में मिराज-2000 से काफी छोटे हैं। भारतीय वायु सेना ने एलओसी पार कर पाकिस्तान में लगभग 3 से 4 मील अंदर घुसकर यह कार्रवाई की है। यह कार्रवाई लगभग 19 मिनट तक चली। जिसके बाद भारतीय वायुसेना को सभी अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं पर अलर्ट रहने और किसी भी हाल में जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार रहने का निर्देश दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here